जानें कौन है शेर सिंह राणा जिसने फूलन देवी को ख़तम कर अफगानिस्तान से लाया पृथ्वीराज चौहान की अस्थियां..

13
foolan singh devi

डेस्क : विद्युत जामवाल ने अपने फिटनेस के दम पर बॉलीवुड में काफी नाम कमाया है। विद्युत जामवाल एक बेहतरीन अभिनेता होने के साथ-साथ काफ़ी स्वस्थ भी हैं। विद्युत ने एक से बढ़कर एक फिल्में की हैं। विद्युत फिल्म कमांडो के बाद और भी ज्यादा चर्चा में आए।

एक्टिंग के अलावा उन्हें मार्शल आर्ट में भी काफ़ी दिलचस्पी है। वह आए दिन अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर अपने फैंस के साथ फोटो और वीडियो शेयर करते रहते हैं। लेकिन अब विद्युत जामवाल शेर सिंह राणा की बायोपिक करते नजर आएंगे और इस फिल्म का निर्देशन नारायण सिंह करेंगे। नारायण सिंह इससे पहले टॉयलेट एक प्रेम कथा जैसी फिल्मों का भी निर्देशन कर चुके हैं।

कौन हैं शेर सिंह राणा? : शेर सिंह राणा एक कट्टर राजपूत परिवार से आते हैं। दरअसल शेर सिंह राणा को दो वजहों से भी बहुत जाना जाता है। शेर सिंह राणा तब सुर्खियों में आया जब उसने फूलन देवी की हत्या करके अपना गुनाह को कबूल कर लिया। उसने दिन के उजाले में फूलन देवी के सीने को गोलियों से छलनी कर दिया था, जिससे फूलन देवी को अपनी जान गंवानी पड़ी थी। और इसके अलावा शेर सिंह राणा को अफगानिस्तान से पृथ्वी राज चौहान के 800 साल पुराने अवशेषों को भारत वापस लाने के लिए भी जाना जाता है।

फूलन देवी की जान क्यों चली गई? दरअसल, फूलन देवी ने 14 फरवरी 1981 को बेहमई गांव में ठाकुर परिवार के 22 लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी थी, जिसके चलते शेर सिंह राणा ने 20 साल बाद यानी 25 जुलाई 2001 को अपने दोस्तों के साथ मिलकर बदला लेने की भावना से फूलन देवी की हत्या कर दी. जिसके बाद शेर सिंह राणा को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी। कैद होने के बाद, शेर सिंह को पता चला कि पृथ्वी राज चौहान के अवशेष अभी भी अफगानिस्तान में ही हैं, फिर वह जेल से भाग गया और पृथ्वी राज चौहान के 800 साल पुराने अवशेषों को अफगानिस्तान से पुन: भारत वापस लाया। अब विद्युत जामवाल इस बायोपिक मै पृथ्वी राज चौहान के 800 साल पुराने अवशेषों को अफगानिस्तान से पुन: भारत वापस लाने वाली स्टोरी को करने के लिए काफी उत्साहित नजर आ रहे हैं।