बिहार में त्योहारों के वक्त ही क्यों गहराई बिजली संकट, जानें सिर्फ ये तीन वजह – नहीं हो रहा उत्पादन

डेस्क : त्योहार का सीजन आ गया है और त्योहार के सीजन में बिहार के हाल खराब हो गए हैं। बता दें कि बिहार में बिजली संकट आ गया है। ऐसे में बताया जा रहा है कि सिर्फ जिला मुख्यालय को छोड़कर बिहार के हर ग्रामीण स्तर पर बिजली नहीं पहुंच रही है। यदि बिजली आ रही है तो वह कुछ देर रुक कर चली जा रही है। फिलहाल के लिए बिहार में 20 से 25 फ़ीसदी बिजली कम सप्लाई की जा रही है। यह हालात इसलिए पैदा हुए हैं क्योंकि कोयले की काफी कमी हो गई है, जिसके कारण बिजली उत्पादन में परेशानी आ रही है।

ज्यादा जानकारी के लिए बता दें कि बिजली की प्राइवेट कंपनियां अब बाहर से बिजली खरीद कर बिहार में भेज रही है। बिहार को इस वक्त 5000 मेगावाट बिजली भेजी जा रही थी लेकिन जरूर 6000 मेगावॉट की थी। गरिमत तो यह रही कि रात के वक्त बिजली आपूर्ति घट गई, जिसके कारण कंपनियों पर ज्यादा दबाव नहीं आया। हालांकि इससे लोगों की वही परेशानी बनी रही। नवरात्रि का समय चल रहा है, आगे आने वाले समय में और त्यौहार आने वाले हैं। ऐसे में यदि बिहार पर यह बिजली संकट बना रहा तो काफी परेशानी हो सकती है।

बता दें कि त्योहारों में बिजली की मांग बढ़ जाती है, बिहार में सिर्फ पटना को छोड़कर अन्य शहरों में और उनसे जुड़े ग्रामीण इलाकों में बिजली की कटौती हो गई है। बीते दिनों यह खबर आई थी कि कांटी और बरौनी थर्मल पावर प्लांट को ठप किया जाएगा। दोनों पावर प्लांट बंद हो गए हैं और बिजली संकट गहरा गया है। कुछ अधिकारियों का कहना है कि कोयले की कमी हो गई है जिसके कारण बिजली नहीं आ रही है। हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं। कुछ अधिकारियों का कहना है कि बाढ़ की वजह से बिजली की यूनिट प्रभावित हो गई हैं, जिसके चलते बिजली देने में वह सक्षम नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.